Wednesday, February 6, 2013

वहाँ क्या है ?


  • जहाँ न दिन है न रात ....
  • जहाँ न सत् है न असत् .....
  • जहाँ न मैं हैं न तूं .............
  • जहाँ न काम है , न राम ....
  • जहाँ न माया है , न काया .....
  • जहाँ न आसमान है , न धरती .....
  • जहाँ न पाप है न पुण्य .....
  • जहाँ न अच्छा है न बुरा ....
  • जानां न दुःख है , न सुख ....
  • जहाँ न भय है न मोह ....
  • जहाँ न कामना है , न क्रोध .....
  • जहाँ न लोभ है , न अहँकार ....


आखिर ऐसे आयाम में क्या हो सकता है ?


  • गुण तत्त्वों के परे निर्गुणी रहता है 
  • माया परे मायापति रहता है 
  • काम परे कामेश्वर रहता है 
  • सभीं भावों के परे भावातीत रहता है 

फिर हम सब क्यों उसे समझनें में असमर्थ हैं ?

बहुत सीधा सा जबाब है :

हम जहाँ हैं , जहाँ रहते हैं , उसको समझनें की कोशिश करते ही नहीं 
जिस घडी हमारी दृष्टि स्व पर केंद्रित हो जायेगी , उस घडी उसे समझनें की जरुरत न होगी , वह सर्वत्र नजर आनें ही लगेगा अतः पर से अपनी दृष्टि को स्व पर केंद्रित करनें का अभ्यास करना हमारे हाँथ में है और यह अभ्यास जिस घडी अभ्यास - योग में रूपांतरित हो उठेगा उस घडी हमें उसे खोजनें के किये काशी या काबा की यात्रा न करनी होगी  , हम जहाँ भी होंगे वही  काशी और काबा हो उठेगा / 
प्रभु तो सर्वत्र है लेकिन ज्योंही भोग से हमारी दृष्टि प्रभु की ओर मुडती है , न जानें क्यों हमारी पलकें झपक जाती हैं और हम चूकते चले जा रहे हैं , काश ! वह घडी आये जब हमारी पलकें झपकें नही और हम प्रभु को अपनें नयनों में बसा सकें /

==== ओम् =====

No comments:

Post a Comment