Tuesday, December 24, 2013

25 दिसंबर

● वे कौन हैं जो सुनते हैं ? ●
1- वे , जिनकी जीवन- यात्रा प्रकृति दर्शनके सिद्धांतो पर आगे बढती रहती है ,वे सुनते हैं - अपनें और दूसरोंके दिल की आवाजको।
2- वे सुनते हैं , उस आवाजको जिस आवाज को संत जोसेफ बाइबिक में शब्द कहते हैं और भारतीय दर्शन कहता है शब्दः ब्रह्मः ।
3- ज़रा सोचना - Pythagoras of Samosa ( 570-495BC ) उस समय बोले कि सभीं ग्रहों की अपनीं -अपनीं आवाजें हैं जबकि उस समय विज्ञान तर्क शास्त्रके गर्भ में था । पाइथागोरसकी बात को आजके वैज्ञानिक पकड़ने में सफल हुए
हैं ।पाइथागोरस ,महाबीर और बुद्ध लगभग समकालीन कहे जा सकते हैं और तीनों बुद्ध पुरुष थे जो प्रकृतिको सुनते थे और प्रकृतिकी भाषा को मनुष्य को सुनाते थे लेकिन सुनता कौन है ?
4- जब कोई नौजवान ऐसी स्थिति में फस जाता है जैसे मकड़ी अपनें द्वारा निर्मित जाल में फस कर दम तोड़ जाती है , तब वह नौजवान बड़े -बुजुर्गों की बातको तबतक केलिए सुनता है जबतक वह उस स्थितिसे निकल नहीं लेता , फिर कौन किसकी सुनता है ?
5- मनुष्यको छोड़ कर अन्य सभीं जीव अन्य जीवों के गंध , आवाज और इशारों को सुनते हैं और मनुष्य खुदके आत्मा की भी आवाज नहीं सुनता , पता नहीं किसके लिए और कहाँ गुम रहता है ?
6- मनुष्य एक्टिंग करनें में स्वयं को इतना दक्ष कर लिया है की अब जानवरों को भी एक्टिंग का प्रशिक्षण देनें लगा है और इस एक्टिंग से सम्मोहित मनुष्य स्वयं के दूर होता चला जा रहा है ।
7- दूसरों को सुननेंकी रीति जिसनें चलाई , वह एक सिद्ध योगी रहा होगा । दूसरोंको सुननें का गहरा अभ्यास इन्द्रियों के रुख को बदल सकता है और बाह्य गामी इन्द्रियाँ अन्तः गामी हो कर परम पर केन्द्रित हो सकती हैं जहाँ से शूक्ष्म शरीर परमगति की यात्रा पर निकलता है ।
8- कबीर कहते हैं , अपनीं पुतलियों को उल्टा करो और जिसे Turning in कहते हैं झेन रहस्यदर्शी , क्या है इन बातों का रहस्य ? कबीर जी के कहनें का भाव है कि इन्द्रियों के बाहर भ्रमण करनेंकी आदत को बदलो ,उनको अन्तः गामी बनानें का अभ्यास करो अर्थात दूसरोंको सुननें के अभ्यासके माध्यम से स्वयंको सुननेंका अभ्यास करना ।
9- दो घडी ही सही ,एकांत में बैठकर सामनें एक मोमबती जला कर उस योगीके उस समय की दिल की आवाजको सुनना जब उसके अपनें लोग ही उसे चांदी के चंद टुकड़ों की लालच में बेच दिया था और उस परम पुरुष को शूली पर लटका दिया गया था । 10- 440 AD December 25th begins to be celebrated as the birthdate of Jesus Christ.
<> जेससकी आखिरी आवाज को सुनकर जुदाद ,  उनका बुद्धिजीवी शिष्य जो उनकी ओर पीठ कर लिया था और उनके अंत का कारण बना , वह अपनें को सम्हाल न सका और आत्म हत्या कर लिया ।
<> जेसस का आखिरी बचन था : हे प्रभु ! मेरा गुनाह क्या था ?
~~ ॐ ~~

No comments:

Post a Comment