Friday, November 23, 2012

कोई तो सुनता ही होगा


  • कौन क्या बोल रहा है , यह महत्वपूर्ण नहीं , आप क्या सुन रहे हैं , यह महत्वपूर्ण है 
  • बोलनें वाला कभी यह नहीं समझता कि सुननें वाला क्या सुन रहा है 
  • सुननें वाला कभी यह नहीं सोचता की बोलनें वाला क्या बोलना चाह रहा 
  • बुद्धि स्तर की समझ बहुत कमजोर समझ होती है 
  • ह्रदय की समझ , गहरी समझ है 
  • जिस से हमारा कोई खास मतलब होता है उसकी हर बात हमें स्वीकार होती है 
  • जिससे  हमारा कोई मतलब नहीं उसकी बात को सुननें के हमारे कान और होते हैं 
  • प्रकृति अब सिकुड़ने लगी है और मनुष्य का अहंकार फ़ैल रहा है 
  •  विज्ञान के आविष्कारों का प्रकृति को सिकोड़ने में हो रहे प्रयोग घातक हो सकते हैं 
  • विज्ञान संदेह आधारित है और संदेह की रोशनी में सत्य को देखना संभव नहीं 
  • संदेह जब श्रद्धा में बदलता है तब उस ऊर्जा से सत्य दिखता है 

विज्ञान का केन्द्र मन - बुद्धि हैं और ज्ञान का केन्द्र है ह्रदय 
निर्विकार मन - बुद्धि का सीधा सम्बन्ध ह्रदय से होता है 
ह्रदय में चेतना की ऊर्जा तब प्रभावी होती है जब मन - बुद्धि निर्विकार हो जाते हैं
हमेशा औरों के सम्बन्ध में ही क्यों सोचते रहते हो कभीं अपनें बाते में भी सोचा करो

  • आज औरों के ऊपर कफ़न डाल रहे हो एक दिन और तुम पर कफन  डालेंगे 

==== ओम् ======


No comments:

Post a Comment