Sunday, December 2, 2012

जबतक -------

[क] जबतक श्वासें चल रही हैं , उसके लिए

  • अपनें - पराये हैं
  • यह तेरा और यह मेरा है
  • जाति - धर्म है
  • दिन - रात हैं
  • सुख - दुःख है
  • अच्छा - बुरा है
और ----
वह सब है जो चाह आधारित  है
लेकिन -----

[ख] जब श्वासें चलानी बंद हो जाती है , तब

  • वह स्वयं अपना सांसारिक अस्तित्व खो बैठता है
  • पलंग से उसे उसके अपनें ही उठा कर जमीं पर लिटा देते हैं
  • उसका नाम रामानंद - ज्ञानानंद नहीं रह जाता 
  •  उसे अब उसके अपनें ही मुर्दा कहनें लगते हैं
  • उसकी कोई जाति नहीं रहती
  • उसका कोई धर्म नहीं होता
  • उसकी कोई चाह नहीं रहती , भौतिक स्तर पर
  • उसके लिए उसके कोई अपनें - पराये नहीं रहते
  • उसे सुख - दुःख , गर्म - ठंढा और अन्य सभीं  द्वैत्यों का कोई प्रभाव नहीं पड़ता
  • उसे संसार में हो रही घटनाएँ नहीं हिला पाती
और ----
वह जिस आयाम में होता है उसके लिए .......
उस घडी जो रहता है , उसे गीता में प्रभु श्री कृष्ण कहते हैं ----
अब्यय , अप्रमेय , अब्यक्त , सनातन
और .....
मनुष्य जीवन भर भागता रहता है , जो उसे मिलता है उससे उसे क्षण भर की शांति मिलती है लेकिन .....
वे धन्य हैं ----
जिनको उनकी श्वास चलते अपनी श्वासों के मध्यम से उस परम अब्यय की खुशबू मिल जाती है ----
और उस खुशबू में वे तृप्त हो उठते हैं
उनके लिए ---
सभीं द्वित्य तिरोहित हो उठते हैं
और ---
वह अद्वैत्य की ऊर्जा में अलमस्त रहता है
=== ओम् =====

No comments:

Post a Comment