Tuesday, April 5, 2011

चन्दन साधना टूल है



चन्दन साधना का एक टूल है


चन्दन के ऊपर आप पहले दो अंक देख चुके हैं अब आज आप को चन्दन साधना का एक टूल

[ tool ] है , इस बात पर चर्चा करते हैं |


मूलाधार.काम,नाभि,ह्रदय,कंठ,तीसरी आंख[ललाट का मध्य भाग]और

सहस्त्रार[जहां हिंदू लोग चोटी रखते हैं]ये सात चक्र हैं जिनके माध्यम से आत्मा[देही]

देह से जुड़ा होता हैऔर --------------------

गीता कहता है …................

आत्मा को देह में तीन गुण रोक कर रखते हैं और … ................

परम् हंस रामकृष्ण जी कहते हैं-----------------

गुनातीत[मयामुक्त]योगी तीन सप्ताह से अधिक समय तक अपनें देह में नहीं रह सकता|

यहाँ चक्रों को हम इस लिए देख रहे हैं कि------

चक्र साधना सबसे पुरानी साधना है और इसका रहस्य चन्दन प्रयोग रहस्य से मिलता भी है|

मूलाधार से सहस्त्रार के मध्य काम,नाभि दो चक्र महान और मजबूत साधना के अवरोध हैं जो

मूला धार की ऊर्जा को ऊपर उठनें नहीं देते|

मूलाधार की ऊर्जा को ही कुण्डलिनी कहते हैं जो ऊर्जा का मूल श्रोत है[निर्विकार ऊर्जा का] |

अब आप उन स्थानों को देखें जहां चन्दन लगाया जाता है और चक्रों की स्थितियों को देखो,क्या इनमें आप को कोई समानता दिखती है?

एक बात याद रखना----------------

आज कुण्डलिनी जागरण के नाम पर लोग बहुत से ध्यान सिखा रहे हैं लेकिन याद रखना---------

काम,कामना,क्रोध,लोभ,मोह,भय,आलस्य और अहंकार कुण्डलिनी जागरण के शत्रु हैं|

कुण्डलिनी स्वयं जाग्रति हो उठती है जब हम गुण – तत्त्वों की ग्रेविटी से बाहर निकलते हैं|


आज आप मूलाधार चक्र को देखें और रीढ़ की हड्डी के निचले कमर के साथ के भाग को देखें जहां चन्दन लगाया जाता है|चन्दन एक ऐसा एजेंट है जो चक्रों की ऊर्जा को गति देता है और

ऊर्जा को निर्विकार भी बनाता है|

अगले अंक में कुछ और बातें देखनें को मिलेंगी


============ओम================



No comments:

Post a Comment