Friday, July 15, 2011

कौन है ऊपर

जहाँ कोई परमात्मा शब्द बोलता है लोगों का रंग बदलनें लगता है ; कोई कान को हाँथ लगाता है तो कोई ऊपर देखनें लगता है कोई इस शब्द के साथ टिकना नहीं चाहता सभीं चाहते हैं , किसी तरह परमात्मा - पिजड़े के बाहर रहना लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो प्रभु में ही अपना बसेरा बना

रखा है /

गीता में प्रभु श्री कृष्ण कहते हैं--------

हे अर्जुन ! बहुत से लोग मुझे चाहते हैं , किसी का कोई कारण होता है तो किसी का कोई , जो मुझसे जुड़ते हैं उनमें कुछ को सिद्धि मिल भी जाती है लेकिन सिद्ध - योगियों में कोई एकाध मुझे तत्त्व से समझ पाता है /

कौन परमात्मा को तत्त्व से समझता है?

  • सुख – दुःख,भय – मोह एवं आलस्य का आयाम …....

  • काम,कामना,क्रोध,लोभ अहंकार का आयाम ….

  • प्रभु के साथ जुड़े होनें के कारण मैं के गर्व का आयाम ….

जब कोई साधक इन तीन आयामों से अप् रभावित हो जाता है तब ------

सम्भव का आयाम आता है जहाँ टिके रहनें वाला योगी किसी भी क्षण कहीं भी धीरे से प्रभु के आयाम में सरक जाता है जिसको कहते हैं गुणातीत – योगी /

  • प्रभु से भाग कर कहाँ जाओगे?

  • प्रभु को धोखा देकर कहाँ रहोगे?

  • प्रभु को नज़र अंदाज़ करके कैसे जीवन गुजारोगे?

प्रभु की ओर पीठ करनें वाला कबतक भागता रहेगा ? वह कौन सी जगह है जहाँ प्रभु नहीं , आखिर

एक दिन तो तुमको जबाब देना ही होगा कि …...

मनुष्य जीवन में तुम किस तरह रहे हो?


=====ओम=========


No comments:

Post a Comment