Friday, March 9, 2012

जीवन दर्शन - 25

  • संसार से भाग कर कहाँ जाओगे?

  • जहाँ भी जाओगे तुम्हारा अपना संसार निर्मित हो उठेगा

  • तुम जिस संसार से भागे थे वह किसी और का नहीं था , तुम्हारा अपना था

  • तुम जगह बदलते रहते हो लेकिन स्वयं को नहीं बदलना चाहते

  • जबतक तुम अपनें को नहीं बदलते तुम जहाँ भी रहोगे वह तुमको नरक सा दिखता रहगा

  • यहाँ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में सभीं सूचनाओं का अपना-अपना संसार है

  • संसार अर्थात एक स्पेस ; हमारी ऊर्जा का क्षेत्र

  • जहाँ कोई अपना , कोई पराया का आभाष न रहे वह प्रभु का स्पेस होता है

  • पर में स्व को देखना एवं स्व में पर को देखना ही भक्ति है

  • जब बुद्धि से तेरा-मेरा का भाव समाप्त हो जाता है तब वह बुद्धि निश्चयात्मिका बुद्धि होती है

  • निश्चयात्मिका बुद्धि में प्रभु बसता है

  • अनिश्चायात्मिका बुद्धि को भोग की बुद्धि होती है

  • ब्राह्मण वह जो ब्रह्म से परिपूर्ण हो

    =====ओम्======



No comments:

Post a Comment