Wednesday, March 28, 2012

जीवन दर्शन - 33

  • कर्म रहित कोई जीव धारी एक पल भी नहीं रह सकता[गीता- 18.11 ]

  • भूतभावः उद्भवकरः विसर्गः इति कर्मः[गीत –8.3 ]

    [जीव जिससे भावातीत हो सके वह कर्म है]

  • कर्म कर्ता मनुष्य या जीव नहीं उनके अंदर तीन गुणों का समीकरण होते हैं

  • मनुष्य में जो गुण जिस समय प्रभावी रहता है वह उस प्रकार का काम करता है

  • सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में ऐसा कोई नहीं जी पर तीन गुणों का प्रभाव न पड़ता हो[गीता- 18.40 ]

  • थर्मामीटर में जैसे ताप के प्रभाव में पारा ऊपर नीचे होता रहता है वैसे तीन गुण मनुष्य के अंदर उठते - बैठते रहते हैं [ सोच , खान – पान , रहन – सहन के आधार पर ]

  • सात्विक गुण ज्ञान की ओर ले जाता है

  • राजस गुण भोग से बाधता है

  • तामस गुण मोह एवं भय का जन्म दाता है

  • तीन गुण स्वभाव का निर्माण करते हैं

  • स्वभाव से कर्म होता है

  • कर्म से सुख – दुःख का अनुभव होता है

  • किसी के कर्म एवं कर्म – फल की रचना प्रभु आधारित नहीं है[गीता- 5.14 ]

  • मनुष्य जब कर्म करता है तब स्वयं करता समझता है और जब परिणाम गलत होते है तब प्रभु को जिम्मेवार समझता है , क्या है यह राजनीति वह भी प्रभु से ?

  • परिणाम उत्तम तो उस कर्म को करनें वाला मैं हूँ और यदि परिणाम अशुभ हुआ तो वह प्रभु के कारण हुआ,यह है मनुष्य की गणित


====ओम्=======



1 comment: