Saturday, September 18, 2010

फिर कौन था ?


[क] जब पृथ्वी मानुष शून्य थी पर अन्य सभी थे , तब यह कैसी रही होगी ?

[ख] तब जो थे उनमें क्या परमात्मा नही झांकता रहा होगा ?

[ग] तब सच को झूठ और झूठ को सच कौन बनाता रहा होगा ?

[घ] तब जो था , वह क्या सैट न था , जिसको गीता कहता है ---
नासतो विद्यते भावों नाभावो विद्यते सतः

[च] तब सुख - दुःख का अनुभव कौन करता रहा होगा ?

पांच बांते उनके लिए जिनकी बुद्धि भोग में उलझ चुकी है और -----
उनके माथे पर आया पसीना कभी सूखता नहीं ॥
भोग में उलझी बुद्धि नरक का द्वार है और .....
प्रभु में स्थिर बुद्धि परम गति का मार्ग ॥

==== जय हो =====

No comments:

Post a Comment