Monday, March 14, 2011

सुन कर जानो

आप पहले इनको सुनो .......
और फिर ......
इनको जाननें की कोशिश करो .....
और तब .......
जो आनंद आप को मिले ......
उसे ......
अपनों में बाटो

[क] राग में संसार रंगीन दिखता है
और
वैराग्य में ब्रह्म दिखता है ॥

[ख] आसक्ति में वासना
और
बिरक्ति में प्रभु की खुशबू मिलती है ॥


[ग] अहंकार संसार से
और
प्रीति प्रभु से जोड़ कर रखती है ॥

[घ] चाह में संसार एक खिलौना - घर सा दिखता है ......
और
समभाव में प्रभु इस खिलौना - घर का निर्माता दिखता है ॥

[च] संदेह संसार में भोग मार्ग पर चलनें की ऊर्जा देता है ....
और .....
प्रीति की ऊर्जा प्रभु में पहुंचाती है ॥

==== ॐ ========


No comments:

Post a Comment