Monday, February 6, 2012

आखिर कबतक भाग एक

  • बच्चा जबतक हमारे इशारे पर चलता है , प्यारा लगता है

  • दो के बीच जितनी दूरी होती है सांसारिक मित्रता उतनी सघन सी दिखती है

  • मित्रता तबतक है तबतक दो में से एक दूसरे के पीछे चलता रहा है

  • कौन और कबतक कोई किसी के पीछे चलना चाहता है

  • आप का मौन आप को प्यार बना कर रखता है

  • कौन मौन रहना चाहता है और कबतक

  • आप तबतक प्यारे हैं जबतक हाँ में हैं मिलाते रहते हैं

  • उसका दर्शन मौन बना देता है

  • स्व की खोज मौन की खोज है

  • उसका दिखाना स्व को विसर्जित कर देता है


====ओम्=====


No comments:

Post a Comment