Friday, February 17, 2012

अहंकार की छाया

  • अहंकार अपरा प्रकृति का एक मूल तत्त्व है

  • माया तीन गुणों एवं दो प्रकृतियों का जोड़ है

  • अपरा प्रकृति के आठ तत्त्व हैं[पञ्च महाभूत,मन,बुद्धि अहंकार]

  • परा प्रकृति चेतना का ही नाम है

  • अहंकार का स्वभाव कछुए के स्वभाव से मिलता है ; कभी अंदर तो कभी बाहर

  • राजस गुण का अहंकार फैलाता है

  • तामस गुण का अहंकार सिकोड़ता है

  • सात्विक गुण का अहंकार सीधे नर्क में ले जाता है

  • अहंकार मनुष्य को न जीनें देता है न मरनें

  • तेरा - मेरा , अच्छा - बुरा की सोच अहंकार की ऊर्जा का संकेत है

    ====ओम्=====


No comments:

Post a Comment