Friday, December 10, 2010

खूब उलझाया लोगोंनें ----



अमेरिकन साइकोलोजिस्ट
Dr. Broadus J . Watson says ----------

Conditioning is an integral part of life and without it one
can not adjust in the human - society .

वाटसन मन की conditioning पर बहुत शोध करनें के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं ।

हमारे धर्म - शास्त्र कहते हैं ------
परमात्मा झोपड़ - पट्टी में बसता है ,
और ---
झोपड़ - पट्टी वालों को हमारे धर्म - शात्री सिखाते हैं -------
राजा नरेश होता है ,
और ------
नरेश जहां रहते हैं उसे कहते हैं ......
महल ॥
आप देखिये धर्म - शात्रियो और राजाओं की मिलीभगत को ।
आखिर ये लोग आम सीधी साधी जनता को क्यों गुमराह कर रहे हैं ?
गीता में भी कहा गया है ------
नराणां च नराधिपं , अर्थात ......
प्रभु श्री कृष्ण कहते हैं ----
नरों में मैं नर अधिपम [राजा] , मैं हूँ ---- गीता - 10.27
हमारे अपनें लोग जिन पर हम श्रद्धा रखते हैं ,
वे हमें क्यों गुमराह करते हैं ?

=== कभी तो ====

No comments:

Post a Comment