Tuesday, October 12, 2010

कोई आ रहा है तो -------


यहाँ कौन सुन रहा है ------
यहाँ कौन देख रहा है ----
यहाँ कोई आरहा है तो -----
यहाँ से कोई जा रहा है ॥

जीवों में मनुष्य एक मात्र ऐसा जीव है .......
जिसके जीनें के लिए , उसका अपना - अपना ------
संविधान है ......
धर्म शास्त्र है , लेकीन क्यों ?, लेकीन
अन्य जीव जिसमें जीते हैं ,
वह -----
उनका संविधान हैं ......
उनके धर्म शास्त्र हैं ,
पर क्या .....
मनुष्य अपनें - अपनें धर्म शास्त्रों एवं संविधानों के अनुकूल जीता है ? यदि जीता होता
तो ..........
यहाँ अदालतें न होती -----
यहाँ वकील न होते , जिनके पास ऐसे नेत्र हैं की ---
भारत में बैठे , अमेरिका में देख लेते हैं ।
उनके पास ऎसी बुद्धि है की वे ......
सच को झूठ , एवं .....
झूठ को सच बना देते हैं ,
क्या किसी अन्य जीवों में वकील होते हैं ?

सुबह उठिए और बाहर एक नजर डालिए --------
किसी के दरवाजे पर ......
नाच चल रहा है -----
किसी के दरवाजे पर मातम छाया हुआ है ,
क्यों की ......
किसी के घर कोई नया मेहमान आने वाला है ,
तो .....
किसी के घर से कोई सदस्य अपनी परम यात्रा पर जा चुका है ॥
हिन्दू लोग जब कोई परिवार का सदस्य बढनें वाला होता है तब कहते हैं -----
मेहमान आनें वाला है , यहाँ मेहमान शब्द को आप देखना ,
और वही मेहमान जब आखिरी यात्रा पर निकलता है
तब ----
घर में रोना प्रारम्भ हो जाता है , ऐसा क्यों ?
मेहमान का अर्थ है ------
जो आज हो और किसी भी समय प्रस्थान कर दे , लेकीन जब वह अपनी परम यात्रा पर
निकलता है तब .......
हम उसे आंशुओं से बिदा करते हैं ,
ऐसा क्यों ?
वह जो जहां से आया था [ अब्यक्त से आया था ] और वहीं जा रहा है [ अब्यक्त को जा रहा है ]
तब तो ....
हमें उसकी बिदाई को एक जश्न की तरह मनाना चाहिए लेकीन -----
हम क्यों ऐसा नहीं करते ?

===== जीवन एक अवसर है , इसे हाँथ से निकलनें न दें =====

No comments:

Post a Comment